Home Blog PM ने असम में मां कामाख्या कॉरिडोर का उद्घाटन किया

PM ने असम में मां कामाख्या कॉरिडोर का उद्घाटन किया

20
0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर शनिवार को गुवाहाटी पहुंचे। रविवार सुबह उन्होंने मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा के साथ रोड शो किया। इसके बाद गुवाहाटी के वेटनरी कॉलेज ग्राउंड में मां कामाख्या मंदिर कॉरिडोर समेत 11 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट का इनॉगरेशन किया। शाम को वे दिल्ली लौट जाएंगे।
मां कामाख्या कॉरिडोर महाकाल और काशी विश्वनाथ कॉरिडोर की तरह 498 करोड़ रुपए खर्च कर डेवलप किया जाएगा। प्रधानमंत्री इसके अलावा 358 करोड़ रुपए के गुवाहाटी न्यू एयरपोर्ट टर्मिनल से सिक्स लेन रोड प्रोजेक्ट, 831 करोड़ की इंटरनेशनल फुटबॉल स्टेडियम और 300 करोड़ रुपए में चंद्रपुर में एक नए खेल परिसर प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया।
इसके अलावा PM ने असम माला सड़कों के सेकेंड फेज की भी शुरुआत की। इस फेज में 43 नई सड़कें और 38 कंक्रीट के पुल बनाए जाएंगे और इसमें कुल 3,444 करोड़ रुपए खर्च होगा। PM मोदी गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल की एक इमारत की भी नींव रखी। इसे 3,250 करोड़ रुपए की लागत से बनाया जाएगा।PM की 32 मिनट की स्पीच 5 पॉइंट में…
अयोध्या में भव्य आयोजन के बाद कामाख्या के द्वार आया हूं
पीएम मोदी ने कहा कि अयोध्या में भव्य आयोजन के बाद मैं अब यहां मां कामाख्या के द्वार पर आया हूं। आज मुझे यहां मां कामाख्या दिव्यलोक परियोजना का शिलान्यास करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। इस दिव्यलोक की जो कल्पना की गई है, मुझे उसके बारे में विस्तार से बताया गया है।
लोगों ने अपनी ही संस्कृति पर शर्मिंदा होने का ट्रेंड बना दिया था
पीएम ने कहा- कुछ लोगों ने अपनी ही संस्कृति पर शर्मिंदा होने का ट्रेंड बना दिया था। कोई भी अपनी जड़ों को काटकर, अतीत को भुलाकर सफल नहीं हो सकता। कामाख्या कॉरिडोर का काम जब पूरा होगा तो ये देश और दुनिया भर से आने वाले मां के भक्तों को असीम आनंद से भर देगा।
हमारे तीर्थ हमारी सभ्यता की यात्रा की अमिट निशानियां
पीएम ने कहा- हमारे तीर्थ, हमारे मंदिर, हमारी आस्था के स्थान, ये सिर्फ दर्शन करने की स्थली ही नहीं हैं। ये हजारों वर्षों की हमारी सभ्यता की यात्रा की अमिट निशानियां हैं। भारत ने हर संकट का सामना करते हुए कैसे खुद को अटल रखा, ये उसकी साक्षी है।
नॉर्थ-ईस्ट की कनेक्टिविटी और मजबूत करेंगे
मोदी ने कहा कि आज मुझे एक बार फिर मां कामाख्या के आशीर्वाद से असम के विकास से जुड़े प्रोजेक्ट्स आपको सौंपने का सौभाग्य मिला है। यहां 11 हजार करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। ये सारे प्रोजेक्ट असम और नॉर्थ-ईस्ट के साथ ही दक्षिण एशिया के दूसरे देशों के साथ इस क्षेत्र की कनेक्टिविटी को और मजबूत करेंगे।
देश में पर्यटन को लेकर उत्साह बढ़ रहा है
मोदी ने कहा- आज देश में पर्यटन को लेकर उत्साह बढ़ रहा है। असम में पहले 6 मेडिकल कॉलज थे, आज 12 हैं। पहले बड़े संस्थान बड़े शहरों में होते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। भाजपा सरकार नॉर्थ ईस्ट के विकास पर विशेष जोर दे रही है। बीते 10 साल में रिकॉर्ड संख्या में यहां टूरिस्ट आए हैं। 2014 तक नॉर्थ-ईस्ट में सिर्फ 10 हजार किमी का नेशनल हाईवे हुआ करते था। पिछले 10 सालों में ही हमने 6 हजार किमी के नए नेशनल हाइवे बनाए हैं।नीलांचल पर्वत पर कई और मंदिर भी, कॉरिडोर में ये सब शामिल
नीलांचल पर्वत पर मां कामाख्या देवी के मंदिर के अलावा कई मंदिर हैं। यहां मातंगी, कमला, त्रिपुर सुंदरी, काली, तारा, भुवनेश्वरी, बगलामुखी, छिन्नमस्ता, भैरवी, धूमावती देवियों और दशमहाविद्या (देवता के दस अवतार) के मंदिर भी हैं। नीलांचल पहाड़ी के चारों ओर भगवान शिव के पांच मंदिर कामेश्वर, सिद्धेश्वर, केदारेश्वर, अमरतोकेश्वर, अघोरा और कौटिलिंग मंदिर हैं। इन्हीं सब को मिलाकर मां कामाख्या कॉरिडोर तैयार होगा।ब्रह्मा, विष्णु और शिव हिल से मिलकर बना नीलांचल पर्वत
नीलांचल तीन भागों यानी ब्रह्मा हिल, विष्णु हिल और शिव हिल से मिलकर बना है। यहां भुवनेश्वरी मंदिर सबसे ज्यादा हाइट पर है। पहाड़ी के उत्तरी भाग में ब्रह्मपुत्र नदी बहती है। नीलांचल पहाड़ी में बाणदुर्गा मंदिर, जया दुर्गा मंदिर, ललिता कांता मंदिर, स्मरणकली मंदिर, गदाधर मंदिर, घंटाकर्ण मंदिर, त्रिनाथ मंदिर, शंखेश्वरी मंदिर, द्वारपाल गणेश के मंदिर जैसे कुछ अन्य मंदिर हैं। हनुमान मंदिर, पांडुनाथ मंदिर बरहा पहाड़ी में स्थित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here