Home Blog डॉक्टर बनना चाहती थीं शिवांगी जोशी:लोगों को गलत साबित करने मात्र 15...

डॉक्टर बनना चाहती थीं शिवांगी जोशी:लोगों को गलत साबित करने मात्र 15 की उम्र में बनीं एक्ट्रेस

19
0

सिर्फ 10 साल के करियर में शिवांगी टीवी की हाईएस्ट पेड और पॉपुलर एक्ट्रेसेस में से एक बन चुकी हैं लेकिन इस मुकाम तक पहुंचना उनके लिए आसान नहीं था। मजेदार बात तो यह है कि शिवांगी को कभी एक्ट्रेस बनना ही नहीं था, वो तो डॉक्टर बनना चाहती थीं पर किस्मत से वो एक्ट्रेस बन गईं। इस हफ्ते ‘स्टार टॉक्स’ में हम बात करेंगे शिवांगी जोशी की जो आज टीवी इंडस्ट्री का जाना-पहचाना नाम हैं।शिवांगी ने टीवी शो ‘खेलती है जिंदगी आंख मिचोली’ से एक्टिंग डेब्यू किया था। हालांकि, उन्हें असल पहचान 3 साल तक स्ट्रगल करने के बाद टीवी शो ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ से मिली। अपने करियर के शुरुआत में शिवांगी बहुत बुरे दौर से गुजरी हैं। खराब आर्थिक स्थिति से लेकर सेट पर सीनियर एक्टर्स से ताना मिलने और बॉडी शेमिंग का शिकार होने तक एक्ट्रेस ने काफी कुछ फेस किया। हालांकि, अब उनका मानना है की हर किसी को अपनी जिंदगी में एक बार तो स्ट्रगल से गुजरना चाहिए।शिवांगी ने बताया, ‘मैं डांस फील्ड में करियर बनाना चाहती थी। कोरियोग्राफर बनना चाहती थी और अगर कोरियोग्राफर ना बन पाती तो मेरे मन में दूसरा ऑप्शन डॉक्टर बनना था क्योंकि मैं पढ़ाई में काफी अच्छी थी। लेकिन कुछ ऐसी घटनाएं भी हुईं जब लोगों ने मुझे ताना मारा कि अरे ये तो एक्ट्रेस बनने वाली थी, इसे मुंबई जाना था… इसका क्या हुआ? एक्टर नहीं बन पाई क्या? बन ही नहीं सकती..। उस वक्त मैं 9th क्लास में थी और तभी मैंने डिसाइड किया कि मैं हर किसी को गलत साबित करूंगी। मैं हर किसी को दिखाउंगी कि मैं एक एक्ट्रेस बन सकती हूं। एक साल बाद हम मुंबई आ गए और यहीं से मेरी एक्टिंग जर्नी शुरू हुई।मुंबई में मेरा शुरुआती सफर बड़ा ही मजेदार था। दरअसल, छोटे शहरों के घरों की तुलना में यहां जगह बहुत कम है। हमें जो पहला फ्लैट मिला वो इतना छोटा था कि उसमें केवल एक कमरा था। वो पीजी सिस्टम था और वहां अन्य लड़कियां भी हमारे साथ रहती थीं। यकीन मानिये, मुंबई में मैं पहली रात सो ही नहीं पाई। अगले दिन मां ने वॉचमैन से बात की जिसकी मदद से हमें किसी और बिल्डिंग में एक अलग फ्लैट मिला जो बेहतर था।कुछ दिन सेटल होने के बाद हमने मुंबई में लोगों से पूछना शुरू किया कि ऑडिशन कहां होते हैं? जब कोई हमारी हेल्प करता था तो मैं जाकर ऑडिशन दे आती थी। कई बार तो मैंने एक दिन में कम से कम 4 ऑडिशन दिए। कुछ एक्टर्स लकी होते हैं कि उन्हें आते ही काम मिल जाता है। कई ऐसे भी होते हैं जो 10 साल स्ट्रगल करने के बाद भी वहां नहीं पहुंच पाते जहां वो पहुंचना चाहते हैं। शुरुआत में मुझे भी काफी स्ट्रगल करना पड़ा। हालांकि मैं अपने आप को खुश नसीब मानती हूं कि मेरा स्ट्रगल सिर्फ 6 महीनों तक ही रहा।अपना पहला ब्रेक पाने के लिए मुझे काफी मशक्कत करनी पड़ी। उस वक्त मेरे दादाजी हॉस्पिटल में थे, उन्हें हार्ट अटैक आया था। मेरी मां मेरे सपनों को पूरा करने के लिए मुंबई में मेरे साथ रहती थी। वहीं पापा और मेरे भाई-बहन उत्तराखंड में थे। हमारा परिवार बिखरा हुआ था और उस वक्त हमारी आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं थी। हम बहुत परेशान थे।

एक वक्त तो ऐसा आया जब समझ ही नहीं आ रहा था कि मुंबई में रहें या फिर अपने होमटाउन लौट जाएं। हमने थोड़ी हिम्मत दिखाई। हार नहीं मानी। इस दौरान मेरी मां ने मेरा बहुत सपोर्ट किया। हम दोनों एक दूसरे को हौसला देते थे। मैं आज जिस मुकाम पर हूं उसका पूरा श्रेय अपनी मां को देती हूं। मुझे यकीन था कि मेरी ईमानदारी का फल मुझे जरूर मिलेगा और हुआ भी वहीं।अपने पहले शो के सेट पर शूटिंग के पहले दिन मुझे बहुत क्रिटिसिज्म झेलना पड़ा। जब मैं अपना पहला शॉट दे रही थी तब मुझे कैमरा की उतनी समझ नहीं थी। मेरे डायरेक्टर बहुत हेल्पफुल थे, उन्होंने मुझे बहुत प्यार से सब कुछ समझाया। लेकिन सेट पर बैठे शो के कुछ सीनियर आर्टिस्ट ने मुझे काफी क्रिटिसाइज किया। उनकी बातें सुनकर मुझे बहुत दुःख हुआ लेकिन बाद में मेरी मां ने मुझे समझाया। उन्होंने कहा कि मुझे ईमानदारी से आगे बढ़ना होगा और कड़ी मेहनत करनी होगी। मैंने वहीं किया और आज वो ही सीनियर आर्टिस्ट मेरे काम की सरहाना करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here