Home Blog किसान कालीदास का देशभक्ति 11 सौ आम के वृक्षों में रंग दिया...

किसान कालीदास का देशभक्ति 11 सौ आम के वृक्षों में रंग दिया तिरंगा

26
0

गणतन्त्र दिवस 26 जनवरी का मौका है और इस मौके पर katihar के किसान कालीदास बनर्जी का देशभक्ति देखकर आप भी दंग रह जाएंगे, रौतारा गांव के रहने वाले बुजुर्ग किसान कालीदास अपने दस एकड़ में लगे 11 सौ फलदार वृक्ष में आम की खेती बड़ी लगन से करते हैं, इन्हें इलाके में mangomen के भी नाम से जाना जाता है, 26 जनवरी के अवसर पर उन्होंने जो अपनी देशभक्ति का जज्बा दिखलाया है, इसे देखकर आप भी इनके देशभक्ति के जज्बे को सलाम करेंगे,
आइए जानते हैं देशभक्ति की कहानी किसान कालीदास की जुबानी,
इन्होंने सभी वृक्षों में तिरंगा रंग दिया है और हर तिरंगे में अशोकचक्र भी बनाया है, यह कमाल महज 11 दिनों के मेहनत में इन्होंने किया है, अपने देशभक्ति का संदेश ये देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंचाना चाहते हैं ताकि आने वाले समय में पर्यावरण की सुरक्षा हो सके,
कालीदास कहते हैं कि देशभक्ति का जुनून बचपन से ही है, ऐसे में तिरंगा की शान को बढ़ाने के लिए इन्होंने आम के हर पेड़ में तिरंगा पिरो दिया है, इनकी माने तो समाज इसे देखकर समाज और आने वाले पीढ़ी सिख ले, ये प्रधानमंत्री से भी कहना चाहते हैं की विकास कार्यों के साथ साथ पेड़ पौधों के संरक्षण का भी कार्य हो और सभी तिरंगा उत्सव का पालन करे, वहीं इस तरह के कार्य को लेकर जब किसान कालीदास से पूछा गया कि आखिर इससे फायदा क्या होगा, तो इन्होंने बताया है कि इस तिरंगे के रंग में वृक्ष में लगने वाले कीटनाशक दवाई को मिला दिया है ताकि फल के समय कीट का आक्रमण फल पर नहीं हो पाएगा, इसलिए इस तिरंगे से कीट लगने से बचाव और फल का रखरखाव अच्छे तरीके से होगा, साथ ही साथ देशभक्ति और पर्यावरण की सुरक्षा को लेकर लोग पेड़ पौधे को काटने से रोक पाएंगे, इससे वातावरण में शुद्ध वायु भी मिलेगा, जिसका फायदा आने वाले पीढ़ी वैसे बीमारियों से बच पाएंगे, यूं कहें तो मुख्य पर्यावरण की सुरक्षा है, इन्होंने अपने देशभक्ति के जरिए गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करवाने की भी लालसा जाहिर किया है, ऐसा होने से खास कर बिहार और कटिहार का अपना गौरव मानते हैं,
वहीं बगीचे में मौजूद युवा ने भी किसान कालीदास के देशभक्ति के जुनून को युवाओं को मिलने वाली प्रेरणा बताते हुए कहा है कि पर्यावरण को बचाने के लिए पेड़ों की कटाई को रोकना ही कालीदास जी का मुख्य संदेश देना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here