Home Blog किसानों के दिल्ली कूच का दूसरा दिन:शंभू-खनौरी बॉर्डर से फिर हरियाणा में...

किसानों के दिल्ली कूच का दूसरा दिन:शंभू-खनौरी बॉर्डर से फिर हरियाणा में घुसने की कोशिश करेंगे, 7 जिलों में इंटरनेट बैन 2 दिन बढ़ा

19
0

पंजाब के किसानों का दिल्ली कूच का आज (बुधवार) दूसरा दिन है। किसान शंभू और खनौरी बॉर्डर से हरियाणा में घुसने की कोशिश करेंगे। किसान मजदूर मोर्चा के कोऑर्डिनेटर सरवण सिंह पंधेर ने कहा कि हर हाल में दिल्ली तक जाएंगे।

वहीं, हरियाणा के 7 जिलों में इंटरनेट बैन बढ़ाकर 15 फरवरी रात 12 बजे तक कर दिया गया है। यह पाबंदी अंबाला, कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद, हिसार, फतेहाबाद, सिरसा में लागू रहेगी।

इससे पहले मंगलवार (13 फरवरी) को किसानों ने 10 बजे पंजाब से हरियाणा के लिए कूच किया। दोपहर करीब 12 बजे किसान एक साथ पंजाब-हरियाणा के शंभू, खनौरी और डबवाली बॉर्डर पर पहुंचे। सबसे ज्यादा किसान शंभू बॉर्डर पर पहुंचे। यहां पर किसानों के पहुंचते ही हरियाणा पुलिस ने आंसू गैस के गोले बरसाने शुरू कर दिए।

मशीन की रेंज कम पड़ी तो ड्रोन के जरिए आंसू गैस छोड़ी गई। किसानों ने यहां सड़क के बीच रखे सीमेंट के स्लैब ट्रैक्टर से हटा दिए। जिसके बाद हरियाणा पुलिस ने रबर की गोलियां भी चलाई। इस दौरान यहां अंबाला पुलिस के DSP समेत 5 पुलिसकर्मी और कई किसान भी घायल हो गए। किसानों ने यहां घग्गर के पुल के किनारों पर रखे सेफ्टी बैरियर तोड़ दिए।पंजाब कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग शंभू बॉर्डर पर घायल हुए किसानों का हाल-चाल जानने के राजपुरा के सरकारी अस्पताल पहुंचे। यहां उन्होंने घायल किसानों की राहुल गांधी से फोन पर बात कराई। राहुल गांधी ने किसानों से उनकी चोट के बारे में जाना।पंजाब-हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर मंगलवार 13 फरवरी को किसानों से हुए टकराव में हरियाणा पुलिस के DSP समेत 10 जवान घायल हो गए। उन्हें अंबाला सिटी के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने अस्पताल पहुंचकर घायल पुलिस कर्मचारियों का हाल-चाल जाना।किसानों के मुताबिक, वे अब प्लान-B की तैयारी में हैं। किसान नेताओं ने आर्मी के रिटायर्ड अफसरों से बातचीत कर प्लान बनाया है। किसान जल्द इसे अमल में लाने वाले हैं। प्लान क्या है, इसे पूरी तरह से गुप्त रखा गया है।दिल्ली की सिंघु बॉर्डर पर रैपिड एक्शन फोर्स (RAF), पुलिस के जवानों और दंगा नियंत्रण वाहन की तैनाती गई है।पंजाब किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव सरवण सिंह पंधेर ने कहा- मीडिया में खबरें हैं कि सरकार MSP गारंटी को लेकर फिलहाल कोई कानून नहीं बना रही। हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि हमारी कई फसलों को MSP के अंतर्गत ले आया जाए। कई फसलों पर MSP दी जाती है, वहीं कई फसलें इसके अंतर्गत नहीं आती। हम बस इतना कह रहे हैं कि फसलों को MSP से नीचे नहीं बेचेंगे। इसके लिए किसी कमेटी को बनाने की जरूरत नहीं है। हम चाहते हैं कि पीएम सामने आएं और किसानों से बात करें।प्रशासन की तरफ से हरियाणा-पंजाब के शंभू बॉर्डर पर सुबह अनाउंसमेंट किया गया- वो (किसान प्रदर्शनकारी) पागलों की तरह काम कर रहे हैं, हमें लॉजिकली काम करना है। हमें दोगुने उत्साह से काम करना होगा। उन्हें रोकने के लिए पहले हम आंसू गैस के गोले दागेंगे, जरूरत पड़ी तो लाठी चार्ज भी किया जाएगा।किसानों के कूच पर हरियाणा सरकार द्वारा लगाई गई पाबंदियों के खिलाफ 2 याचिकाओं पर मंगलवार को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने कहा कि विवाद के निपटारे के लिए पंजाब, हरियाणा के साथ दिल्ली सरकार भी मिलकर काम करे। आंदोलन के चलते लोगों को परेशानी न हो। केंद्र, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली सरकार स्टेटस रिपोर्ट दे। अगली सुनवाई गुरुवार (15 फरवरी) को होगी। 2 किसान यूनियनों को भी मामले में प्रतिवादी बनाते हुए जवाब मांगा है।

हाईकोर्ट ने कहा कि जिस तरह किसानों को शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन का मौलिक अधिकार है, उसी तरह सड़क पर चलने वाले लोगों के भी मौलिक अधिकार हैं। राज्य सरकारें आंदोलन के लिए जगह चिन्हित कर सकती हैं। मिल बैठकर समाधान निकाला जाना चाहिए। बल प्रयोग अंतिम विकल्प के तौर पर देखा जाए। हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार से पूछा, रास्ते क्यों बंद हैं? इस पर सरकार के वकील ने कहा कि किसानों को दिल्ली से इजाजत लेनी थी। इस पर जज कहा- इन्हें आप क्यों रोक रहे हैं। इन्हें आने-जाने की आजादी है।मंगलवार को खनौरी बॉर्डर पर किसान और पुलिस आमने-सामने हो गई। किसानों ने जबरन घुसने की कोशिश की तो पुलिस ने आंसू गैस छोड़ी। इसके बाद भी भीड़ नहीं रुकी और पुलिस पर पथराव हो गया। जिसके बाद पुलिस ने किसानों को लाठियों से दौड़ाया।

इसके बाद शाम करीब 7 बजे किसान नेता सरवण पंधेर और जगजीत डल्लेवाल ने कहा कि मंगलवार के लिए वह सीजफायर का ऐलान करते हैं। अब बुधवार सुबह फिर दिल्ली के लिए कूच करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here